दिवाली रौशनी का त्यौहार है पटाखों का नहीं

Diwali is a estival of lights not FireCrackers

उच्चत्तम न्यायलय द्वारा पटाखों पर लगाए गए प्रतिबन्ध को सांप्रदायिक रंग देकर हम भारतीयों ने बेवकूफी की एक नयी मिसाल कायम की है। हम सब जानते हैं कि पिछले साल दिवाली के बाद किस तरह 5-6 दिनों तक दिल्ली से धुआं छंटा नहीं था और उस धुंए से सभी दिल्लीवासियों को बहुत मुश्किलें झेलनी पड़ी थी। दमे के मरीजों के लिए क्या मुसीबत हुई होगी वो तो खैर जाने ही दो।

पिछले साल दिवाली के बाद किस तरह 5-6 दिनों तक दिल्ली से धुआं छंटा नहीं था और उस धुंए से सभी दिल्लीवासियों को बहुत मुश्किलें झेलनी पड़ी थी।

Continue reading “दिवाली रौशनी का त्यौहार है पटाखों का नहीं”

If a joke can hurt your religious sentiments then you’re probably not a strong believer.

You Never Lamb alone

So there has been a controversy going on in Australia over an commercial by a company called “We love our lamb” with the title “You Never Lamb Alone” showing Lord Ganesha feasting with all other gods of different religions and they are probably eating Lamb.

If you think that a funny video is hurting your religion then you’re actually insulting your faith by doubting it’s strength.

Continue reading “If a joke can hurt your religious sentiments then you’re probably not a strong believer.”